प्रधानमंत्री मोदी ने केबिनेट मीटिंग में दिखाया सोशल डिसटेन्टिंग को माॅडल।

आदर्श जीवन Disital
पोस्ट नवनीत मिश्रा     
           
  •  प्रधानमंत्री मोदी ने केबिनेट मीटिंग में दिखाया सोशल  डिसटेन्टिंग को माॅडल।

नई दिल्ली -प्रधानमंत्री मोदी इस कोरोनावायरस को लेकर जो कहतें है, वह करते भी है। यह भारत में रहने वाले से लेकर मोदी विरोधी भी जानने लगे हैं। भारत के प्रधानमंत्री ने सोषल डीसटेन्टिग को करते हुए भी दिखाया हैं।

आज भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को दिल्ली में 7 लोक कल्याण मार्ग पर साप्ताहिक कैबिनेट बैठक की अध्यक्षता की। इस बैठक के दौरान, मंत्रियों को एक दूसरे से कुछ दूरी पर बैठा हुआ देखा गया हैं, आप इसको चित्र में भी देख सकतेे हैं।
 प्रधानमंत्री मोदी ने केबिनेट मीटिंग में दिखाया सोशल  डिसटेन्टिंग को माॅडल।
यह दिखाकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी लोगो से इस खतरनाक बीमारी कोरोनावायरस कोविड-19 से कैसे बचा सकते हैं। इसको लेकर प्रधानमंत्री ने बताया है कि जब वह लाॅकडाउन की बात करते है तो वह भारत के प्रधानमंत्री पर भी लागू होता हैं, जैसा कि उन्होने कल रात 8 बजे अपनी देश के नाम संबोधन में कहा जिससे कोरोनोवायरस का मुकाबला करने के उपाय के रूप में सामाजिक दूरी को बनाए रखा जाये। 

पिछले सप्ताह के साथ-साथ इस सप्ताह राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में, प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोनोवायरस को रोकने के लिए सामाजिक दूरी बनाए रखने की आवश्यकता पर जोर दिया था और न सिर्फ दिया गार्जियन बनकर इसको करकर भी दिखाया है। 

संक्रमण से सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए कम से कम एक मीटर की दूरी बनाए रखनी चाहिए। “विशेषज्ञ कह रहे हैं कि दुनिया भर में कोरोनावायरस संकट से निपटने के लिए सामाजिक गड़बड़ी एकमात्र तरीका है। 

”प्रधान मंत्री मोदी ने कल देश के नाम संबोधन में कहा कि कोरोनावायरस से निपटने का कोई और तरीका नहीं है और हमें खुद को बचाने की जरूरत है। 

प्रधानमंत्री मोदी ने देश के नाम संबोधन में कहा कि हमें जनता से उम्मीद है कि वह कोरोनावायरस के संक्रमण के चक्र को तोड़ना होगा, पीएम मोदी ने लोगों से उन सभी शंकाओं को दूर करने का आह्वान किया, जिनके बारे में सामाजिक भेद करने की प्रथा का पालन करना पड़ता है। 

कुछ लोगों की धारणा है कि सोशल डिस्टेंसिंग केवल कोविद -19 रोगियों के लिए है यह परिवार के हर सदस्य और यहां तक कि प्रधानमंत्री के लिए भी है। और गलत छापों और विचारों से उनके परिवार, दोस्तों और यहां तक कि पूरे देश को बहुत परेशानी हो सकती है। 

लोगों को महंगा भुगतान करना होगा और यह अकल्पनीय होगा, उन्होंने चेतावनी दी। देश में कोविद -19 से 500 से अधिक लोग संक्रमित हुए हैं जबकि 10 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। 

प्रधानमंत्री ने देश में कोरोनोवायरस संक्रमण के चक्र को तोड़ने के लिए 21 सप्ताह के लंबे राष्ट्रव्यापी बंद की घोषणा की है। प्रकोप के खतरे से निपटने के एकमात्र उपाय के रूप में सामाजिक भेद को रेखांकित करते हुए, प्रधान मंत्री ने राष्ट्र को महामारी पर अपने दूसरे संबोधन में कहा, “इस निर्णय ने३ आपके दरवाजे पर एक लक्ष्मण रेखा खींची है। 

” प्रधानमंत्री मोदी ने देश के नाम संबोधन के इस बात पर जोर दिया था कि आपको याद होना चाहिए कि आपके घर के बाहर एक भी कदम कोरोना जैसी खतरनाक महामारी को अंदर ला सकता है। 

उनके संबोधन के कुछ ही मिनटों के भीतर, देश भर में किराने का सामान और प्रावधानों के लिए घबराहट की खबरें आ रही थीं। प्रधान मंत्री ने बाद में स्पष्ट किया कि आवश्यक वस्तुएं उपलब्ध होंगी। 

भारत में अब तक 562 पुष्ट मामले और 10 मौतें दर्ज की गई हैं। रिपोर्ट्स ने सुझाव दिया कि वीडियो कॉल की संभावना पर चर्चा की गई थी, इस केबिनेट को लेकर साप्ताकि बैठक में पारंपरिक तरीके से आयोजित की गई, जिसमें बैठने की व्यवस्था इस प्रकार की गई थी कि एक दूसरे के सम्पर्क न आ सकें।

भारत में इस समय लगभग 530 से अधिक कोरोनोवायरस से पीड़ित मरीज हैं। इसमें 10 लोगों की मौत हो गई है। सरकार इस प्रकार की चुनौती, के लिए लोगों से सामाजिक अलगाव और आत्म-अलगाव का पालन करने के अलावा, दूध, सब्जियां, दवाई जैसी मूल आवश्यक चीजों की आपूर्ति सुनिश्चित करने का काम किया है।

प्रधानमंत्री के इसी प्रकार के मैसेज के कारण लोग न सिर्फ भाजपा समर्थक अपितु उनके राजनीतिक विरोधी भी उनके कायल हो जातें हैं। जिसका उदाहरण है कि लेफट के कट्टर समर्थक षयला रषीद ने भी प्रधानमंत्री के जनता क्रफर्यू पर लोगो के एकत्रित होने की बात पर ट्विटर पर कहा कि देश के लोग प्रधानमंत्री बात एक बार में सुन लेतें हैं।    

’किसी प्रकार के लेटेस्ट समाचार पत्र एवं समाचार  चुनाव समाचार अर्थव्यवस्था समाचार आटो समाचार टेक समाचार विभिन्न समाचार के अपडेट के लिए आप डेली आदर्श जीवन को फौलो करें।

Post a Comment

आप का कमेंट हमारे लिए उपयोगी है कृपया आप से निवेदन है की आप स्पैम लिंक न डाले
your comment is important for us. we request to you don't share spam links.